टिकारी में मरदुआ के 38 संदिग्धों की दूसरी रिपोर्ट निगेटिव

0
53

गया – टिकारी के मरदुआ गांव के कोविड-19 संक्रमित एक ग्रामीण की दूसरी जांच रिपोर्ट निगेटिव आयी है। दूसरी जांच रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद मंगलवार को ग्रामीण की तीसरी बार सैंपल जांच के लिए पटना भेजी गई है। अगले एक से दो दिनों में तीसरी सैंपल की रिपोर्ट भी आ जाएगी। मरदुआ गांव में ग्रामीण की कोविड-19 जांच रिपोर्ट 25 अप्रैल को पॉजिटिव आयी थी। जिसके बाद उसे गया में भर्ती करवाया गया है। अभी वह गया में ही इलाजरत है। क्वारंटाइन सेंटर पर ठहराये गए ग्रामीण को कोविड-19 संक्रमित पाये जाने के बाद मचे हड़कंप के बाद क्वारंटाइन सेंटर पर ठहराये गए 40 अन्य लोगों के स्वाब के नमूने जांच के लिए पटना भेजी गई थी। सभी की रिपोर्ट निगेटिव आयी है। संक्रमित परिवार के दस लोगों की भी जांच रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी है।

मरदुआ गांव अब अब भी सील

22 अप्रैल को दिल्ली से लौटने के बाद प्रशासन ने कुछ ही घंटों के भीतर ग्रामीण को एम्बुलेंस से टिकारी लाकर क्वारंटाइन सेंटर राज इंटर स्कूल में रखा था। 25 अप्रैल की रात ग्रामीण के संक्रमित मिलने के बाद उसके गांव को 26 अप्रैल को पूरी तरह से सील कर दिया गया है। गांव अब भी सील है और वहां मजिस्ट्रेट व पुलिस अधिकारी प्रतिनियुक्त हैं। इपिक सेंटर मरदुआ के तीन किलोमीटर के दायरे को कंटेनमेंट जोन मानकर घर-घर का सर्वे किया गया है। कंटेनमेंट और बफर जोन में अब भी प्रशासन नजर बनाये हुए हैं।

प्रशासन की सक्रियता को सराहा

कोविड-19 संक्रमित केस आने के बाद मची हड़कंप के बीच प्रशासन के कामों की सराहना भी हुई। दिल्ली से लौटे व्यक्ति को सूचना के कुछ ही देर बाद क्वारंटाइन किये जाने को लोगों ने सराहना की है। लोगों ने कहा कि ग्रामीण को तुरंत क्वारंटाइन नहीं किया जाता तो मरदुआ और आस पास का इलाका हॉट स्पॉट में बदल सकता था। एसडीएम मनोज कुमार, बीडीओ वेद प्रकाश और बीएचएम अजीत कुमार गांव से मिली इंपुट के बाद ग्रामीण को तुरंत क्वारंटाइन करा दिया था।