पुलिस और लेखपाल की लापरवाही से खराब हो सकता है अमन चैन

0
192

पुलिस और लेखपाल की लापरवाही से खराब हो सकता है अमन चैन

सिराथू तहसील के दरियापुर मझियावां गांव का मामला

सैकड़ो वर्ष पुराने कर्बला की भूमि पर उप जिलाधिकारी का फालोवर कब्जा कर माहौल बिगाड़ने का कर रहा है प्रयास

कौषाम्बी। कुछ रूपयो की लालच और सत्ता पक्ष के नेताओ के दबाव के चलते लेखपाल और चौकी पुलिस समाज का अमन चैन खराब करने पर तुली है।इस गम्भीर प्रकरण पर 36 घटें से अधिक बीत जाने के बाद अभी तक जिले के आलाधिकारियो ने संज्ञान नही लिया है

जिससे एक समुदाय विषेष के लोगो में उबाल बढता दिख रहा है और एक गांव में बढा आक्रोष अब कई गांव तक फैल रहा है। इस मामले को जिले के आला अफसरो को गम्भीरता से लेते हुए निर्णय करना होगा। जिससे समाज में अमन चैन कायम रह सके।मामला सिराथू तहसील क्षेत्र के दरियापुर मझियावां गांव से जुडा है।

जानकारी के मुताबिक दरियापुर मझियावां गांव में एक कर्बला बना हुआ है और इस कर्बले की उम्र 300 वर्ष से अधिक बतायी जाती है इसी कर्बला में गांव के लोग ताजिया रखते है और जुमेरात पर मजलिस और नौवां का आयोजन करते है जिस भूमि पर कर्बला का भवन बना हुआ है। जमीदारी समय में जमीदारो ने कर्बला बनाने की अनुमति दी थी लेकिन प्रषासनिक लापरवाही के चलते यह भूमि अभी भी सरकार के खाते में बंजर दर्ज है।

इस भूमि पर गांव के अषोक पाल अपना कब्जा बता रहे है अशोक पाल पूर्ब में उप जिलाधिकारी का फालोवर था जिससे लेखपाल भी उसका सहयोग कर रहे है और राजस्वकर्मी के साथ चौकी पुलिस अषोक पाल को बल देकर विवाद की स्थिति पैदा कर रही है। यदि 300 साल पहले बने इस कर्बला और उसकी भूमि पर छेडखानी की गयी तो जिले का अमन चैन खराब हो सकता है।

*सुशील केशरवानी वरिष्ठ पत्रकार ब्यूरोचीफ जनसंदेश टाइम्स जनपद कौशाम्बी 9838824938*

सिकंदर राय

स्टेट क्राइम रिपोर्टर बिहार