पूर्णिया:-सोशल डिस्टनसिंग व स्वच्छता से ही कोरोना को दी जा सकती मात

0
305

बिहार संवाददाता सिकंदर राय की रिपोर्ट

बिना मॉस्क पहने बाहर निकलना दंडनीय अपराध

सोशल डिस्टनसिंग व स्वच्छता से ही कोरोना को दी जा सकती मात

पूर्णिया

कोरोना वायरस संक्रमण के मद्देनजर सभी लोगों को मॉस्क पहनना अनिवार्य कर दिया गया है।बिना मॉस्क पहने लोगों पर दंडात्मक कार्रवाई की जायेगी।इसे लेकर स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग को निर्देशित किया है।इसके तहत फल बेचने वाला, शब्जी विक्रेता, सफाई कर्मी, किराना दूकानदार, सुधा डेयरी, दवा के दूकानदार व कर्मी सहित उन सभी लोगों को इसका अनुपालन करना है जो खरीदारी करने के लिए इन दुकानों पर जाते है। अनुपालन नहीं करने पर संबंधित व्यक्ति को दंडित किया जायेगा।बता दें कि आम जन एन-95 मॉस्क के अलावा घर के बने हुये मॉस्क या जीविका समूहों के द्वारा तैयार की गई मास्क का प्रयोग कर सकते हैं। विभाग का कहना है कि एन-95 मास्क चिकित्सा से जुड़े कर्मियों के लिये आवश्यक है।अन्य कर्मी व लोगों को थ्री प्लाई मास्क या कपड़ा से बना हुआ डबल लेयर मास्क उपयुक्त है। कपड़ा का मास्क को साफ कर बार- बार प्रयोग में लाया जा सकता है।मालूम हो कि कोरोना वायरस का संक्रमण एक आदमी से दूसरे में फैलता है।दिनानुदिन कोरोना वायरस संक्रमण के पोजिटिव केस में इजाफा हो रहा है। इस परिदृश्य में कोई भी संक्रमित व्यक्ति अनजाने में दूसरे को संक्रमित कर सकता है। साथ ही सामान्य व्यक्ति भी इस संक्रमण का शिकार हो सकता है।इसके मद्देनजर सरकार की ओर से यह कदम उठाया गया है। ताकि कोराना वायरस संक्रमण को यथासंभव कम किया जा सके।

कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए उठाया कदम :
राज्य के जिलों में कोरोना वायरस संक्रमण दिनों दिन बढ़ता जा रहा है रोजाना पॉजिटिव के सामने आ रहे हैं। इसके मद्देनजर सरकार ने ये सुरक्षात्मक कदम उठाया है। संक्रमण के इस दौर में सभी लोगों को इसका अनुपालन करना अनिवार्य कर दिया गया है। विभाग के अनुसार मास्क पहन कर बाहर निकलने से संक्रमण के फैलाव को कम किया जा सकता है। इसीलिए सभी लोगों के लिए दिशा निर्देश जारी किया गया है।
मास्क के प्रयोग से संक्रमण के फैलाव को कम किया जा सकता है।

लॉक डाउन व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर संक्रमण को कर सकते कम:

मास्क पहने के अलावा लोगों को सरकार की ओर से लगाए गए लॉक डाउन का शत-प्रतिशत पालन करना चाहिए।सोशल डिस्टनसिंग से ही कोरोना को मात दी जा सकती है।लोगो को आवश्यक कार्य होने पर बाहर निकलना चाहिए।इसके अलावा घर के किसी भी सदस्य का बाहर से घर आने पर सफाई पर विशेष ध्यान देना चाहिए चिकित्सकों का कहना है कि किसी भी व्यक्ति को घर प्रवेश नहीं करना चाहिए इसके पूर्व स्नान कर लें। स्नान नहीं करने की स्थिति में हाथ को सैनिटाइजर व साबुन से धोना अनिवार्य है साथ ही उस व्यक्ति को पहने हुए कपड़े को भी बाहर ही छोड़ देना चाहिए। पूरे शरीर को साफ करने के बाद ही घर में प्रवेश करना चाहिये। इसका अनुपालन कर कोरोना वायरस संक्रमण के फैलाव को बहुत हद तक कम कर सकते हैं।