प्रखंड के प्राथमिक विद्यालय में भ्रष्ट प्रधानाध्यापक की चलती है मनमानी।

0
335

बिहार संवाददाता सिकंदर राय की रिपोर्ट
विभूतिपुर, समस्तीपुर(बिहार)प्रखंड के कल्याणपुर उत्तर पंचायत वार्ड संख्या-01 जगन्नाथपुर स्थित प्राथमिक विद्यालय में प्रधानाध्यापक मनोज कुमार सहनी की चलती है मनमानी। जिस मनमानी का धौंस दिखा कर उक्त प्रधानाध्यापक ने सरकार द्वारा संचालित विद्यालय विकास की राशि एवं बच्चों के मध्यान भोजन को अपने लिए कमाई का जरिया बना चुका है। ग्रामीणों द्वारा जब इसकी जानकारी प्रखंड प्रमुख रामनाथ राय के पास पहुंची तो उन्होंने विद्यालय का औचक निरीक्षण किया। जहां ग्रामीणों की बात सत्य पाई गई। विद्यालय सुबह 9:30 बजे तक बंद पाया गया। जबकि विद्यालय के सभी शिक्षक एवं छात्र छात्राएं सुबह 9:00 बजे से ही विद्यालय खुलने का इंतजार कर रहे थे। इस संबंध में उपप्रमुख रामनाथ राय ने विद्यालय के प्रधानाध्यापक मनोज कुमार साहनी से पूछा तो उन्होंने रौब दिखाते हुए कहा लेट हुआ तो क्या करे। आप क्या कहना चाहते हैं। इसके बाद मध्याहन भोजन के बारे में पूछने पर उन्होंने बताया कि कल मध्यान भोजन नहीं बना। कारण पूछे जाने पर प्रधानाध्यापक ने बताया कि रसोईया नहीं आई थी। जबकि विद्यालय में चार रसोईया है। जिस पर उप प्रमुख ने बताया कि सरकार की नियम है कि विद्यालय में रसोईया नहीं आने पर वैकल्पिक व्यवस्था कर मध्यान भोजन को संचालन करना है। मध्याहन भोजन बंद नहीं करना है, फिर भी प्रधानाध्यापक रौब झाड़ते हुए बताया कि हम समझ लेंगे। हमारा भी पहुंच है। यहां गौर करने की बात यह है कि जब प्रधानाध्यापक एक जनप्रतिनिधि के साथ ऐसा बर्ताव कर सकते हैं तो आम लोगों के साथ उनका बर्ताव कैसा रहता होगा ।अब देखना है कि प्रधानाध्यापक कब तक हावी होकर इस प्रकार का व्यवहार को अपनाते हैं। विभाग की ओर से इस पर क्या कदम उठाया जा सकता है। यह तो विभाग के ऊपर निर्भर करता है। वैसे समाज व विकास के लिए उजागर गड़बड़ियों का जांच विभाग द्वारा कराया जाना आवश्यक जान पड़ता है।यह तो समय ही बताएगा कि विभाग के द्वारा इस पर क्या कार्रवाई होती है। प्राप्त जानकारी के अनुसार किसी विद्यालय के प्रधानाध्यापक जिन्होंने गलत ढंग से विद्यालय के विकास के राशि को गबन किया है या स्वच्छ विद्यालय नहीं पहुंचने हैं उन पर अविलंब कार्रवाई होने वाली है।