फसल जलकर राख

0
529

चालीस एकड़ गेहूं की फसल जलकर राख

चालीस एकड़ गेहूं की फसल जलकर राख

सरपतहां (जौनपुर ) जिले के सरपतहां थाना क्षेत्र के चिल्हीरामपुर गांव में शनिवार को लगी आग में जहां दो गांवों के किसानों की लगभग 40 एकड़ तैयार गेहूं की फसल जलकर राख हो गयी। वहीं चार रिहायशी मकान व छप्पर आग की भेंट चढ़ जाने से 11 परिवार बेघर होकर खुले आसमान के नीचे आ गये। बताते है कि गांव के पश्चिमी छोर पर गन्ने के खेत में लगायी गयी आग ने बगल में तैयार गेहूं की फसल को अपने आगोश में ले लिया। ग्रामीण जब तक कुछ प्रयास करते तब तक आग ने विकराल रूप धारण कर लिया और देखते हीं देखते एक के बाद एक खेत को जलाती हुई आग ने कई आशियानों को जलाकर राख कर दिया। सूचना मिलते हीं थानाध्यक्ष शशी चन्द्र चैधरी मय फोर्स मौके पर पहुंच गये।जनपद के आन्तिम छोर पर हुई घटना से सीमावर्ती जनपद सुलतानपुर से फायर ब्रिगेड की गाड़ी पहुंची,लेकिन तब तक स्थानीय लोगों के सहयोग से आग पर काबू पा लिया गया।भयंकर अग्निकांड की खबर लगते हीं उपजिलाधिकारी राजेश कुमार वर्मा व क्षेत्राधिकारी शाहगंज अजय श्रीवास्तव मौके पर पहुंच गये और अग्निकाण्ड से हुए नुकसान का जायजा लेने के साथ हीं लोगों को मदद देने का भरोसा दिलाया। आग से बेघर हुए लोगों में चील्हीरामपुर निवासी वीरेंद्र पुत्र चंद्रिका प्रसाद, पन्नालाल पुत्र मनीराम, मिथुन, ध्रुवराज पुत्र पन्नालाल रामगरीब पुत्र रामलाल, दयाराम,जिये लाल पुत्रगण झिनकू, राम रामचंद्र पुत्र भागीरथी, राकेश,सुरेश पुत्रगण भागीरथी तथा राज कुमार पुत्र राम गरीब शामिल हैं। अग्निकांड में चील्हीरामपुर, भिवरहां,पिपरौल गांव के छोटे लाल शर्मा समर बहादुर सिंह बृज राज सिंह,इंद्रजीत सिंह, जोखन सिंह, अच्छेलाल, रामानंद,असुरफा देवी, बनवारी लाल, बिहारी लाल, त्रिभुवन, मुन्ना प्रदीप, चंद्रिका प्रसाद, जड़ावती शर्मा, कुंजू, बांके लाल शर्मा, दयाराम शर्मा, राघव राम शर्मा, मुन्ना लाल, गणेश शर्मा, अशराफी,अनंत प्रसाद सिंह, उर्मिला शर्मा, नागेंद्र कुमार शर्मा, रमाकांत शर्मा, प्रेमलली, अमरनाथ शर्मा, रमाशंकर ललिता देवी आदि की गेहूं की फसल राख हो गयी। वहीं अग्निकांड में विकलांग भतीजे जितेन्द्र(12) को बचाने में सुरेन्द्र झुलस गये, जिनका उपचार सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सुइथाकला में कराया गया ।

सरपतहां (जौनपुर ) जिले के सरपतहां थाना क्षेत्र के चिल्हीरामपुर गांव में शनिवार को लगी आग में जहां दो गांवों के किसानों की लगभग 40 एकड़ तैयार गेहूं की फसल जलकर राख हो गयी। वहीं चार रिहायशी मकान व छप्पर आग की भेंट चढ़ जाने से 11 परिवार बेघर होकर खुले आसमान के नीचे आ गये। बताते है कि गांव के पश्चिमी छोर पर गन्ने के खेत में लगायी गयी आग ने बगल में तैयार गेहूं की फसल को अपने आगोश में ले लिया। ग्रामीण जब तक कुछ प्रयास करते तब तक आग ने विकराल रूप धारण कर लिया और देखते हीं देखते एक के बाद एक खेत को जलाती हुई आग ने कई आशियानों को जलाकर राख कर दिया। सूचना मिलते हीं थानाध्यक्ष शशी चन्द्र चैधरी मय फोर्स मौके पर पहुंच गये।जनपद के आन्तिम छोर पर हुई घटना से सीमावर्ती जनपद सुलतानपुर से फायर ब्रिगेड की गाड़ी पहुंची,लेकिन तब तक स्थानीय लोगों के सहयोग से आग पर काबू पा लिया गया।भयंकर अग्निकांड की खबर लगते हीं उपजिलाधिकारी राजेश कुमार वर्मा व क्षेत्राधिकारी शाहगंज अजय श्रीवास्तव मौके पर पहुंच गये और अग्निकाण्ड से हुए नुकसान का जायजा लेने के साथ हीं लोगों को मदद देने का भरोसा दिलाया। आग से बेघर हुए लोगों में चील्हीरामपुर निवासी वीरेंद्र पुत्र चंद्रिका प्रसाद, पन्नालाल पुत्र मनीराम, मिथुन, ध्रुवराज पुत्र पन्नालाल रामगरीब पुत्र रामलाल, दयाराम,जिये लाल पुत्रगण झिनकू, राम रामचंद्र पुत्र भागीरथी, राकेश,सुरेश पुत्रगण भागीरथी तथा राज कुमार पुत्र राम गरीब शामिल हैं। अग्निकांड में चील्हीरामपुर, भिवरहां,पिपरौल गांव के छोटे लाल शर्मा समर बहादुर सिंह बृज राज सिंह,इंद्रजीत सिंह, जोखन सिंह, अच्छेलाल, रामानंद,असुरफा देवी, बनवारी लाल, बिहारी लाल, त्रिभुवन, मुन्ना प्रदीप, चंद्रिका प्रसाद, जड़ावती शर्मा, कुंजू, बांके लाल शर्मा, दयाराम शर्मा, राघव राम शर्मा, मुन्ना लाल, गणेश शर्मा, अशराफी,अनंत प्रसाद सिंह, उर्मिला शर्मा, नागेंद्र कुमार शर्मा, रमाकांत शर्मा, प्रेमलली, अमरनाथ शर्मा, रमाशंकर ललिता देवी आदि की गेहूं की फसल राख हो गयी। वहीं अग्निकांड में विकलांग भतीजे जितेन्द्र(12) को बचाने में सुरेन्द्र झुलस गये, जिनका उपचार सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सुइथाकला में कराया गया ।