विश्व हिंदू सेना के संस्थापक श्री अरूण पाठक ने कम्युनिस्टो को दिया अल्टीमेटम

0
257

  1. भारत देश जब कोरोनॉ नामक वैश्विक महामारी से लड़ रही थी ,तोह वही सीमा पर भारत और चीन के बढ़ते तनाव के चलते ,देश हित मे कार्य कर रही विश्व हिंदु सेना ने पोस्टर चिपका कर दिया कम्युनिस्ट् पार्टी के नाम से कम्युनिस्ट शब्द हटाने को लेकर दिया अल्टीमेटम ।
    आप को बता दे कि अरुण पाठक लगातार राष्ट्रहित में कार्य करते रहे है। समय समय पर हिन्दू हित राष्ट्र हित का मुद्दा रखते आये है।

    आप को बता दे अरुण पाठक , एक कट्टर हिन्दू वादी नेता के रूप में समाज मे इनकी छवि है,जो कि ये एक समय मे शिव सेना प्रमुख बाल ठाकरे के करीबी थे और उत्तर प्रदेश में शिव सेना का कामन संभालते थे।
    विगत पिछले वर्ष महाराष्ट्र के विधानसभा चुनाव के बाद शिव सेना ने कांग्रेस को समर्थन दिया एवं शरद पवार के साथ मिलकर सरकार बना ली ।
    शिव सेना के इस समर्थन के पक्ष में उत्तर प्रदेश के अरूण पाठक बिल्कुल भी पक्षधर नही थे ,उनका मानना था कि कांग्रेस देश विरोधी कार्य करती आई है और शिव सेना प्रमुख स्व० बाला साहेब ठाकरे शुरू से ही कांग्रेस के कट्टर विरोधी थे ।
    इस वजह से शिव सेना कांग्रेस ,एन सी पी के साथ सरकार बनाने के पक्ष में अरूण पाठक बिल्कुल भी नही थे।
    और पाठक ने खुद की संगठन विश्व हिंदू सेना बनाकर बाला साहेब के मूल उद्देश्यों को लेकर आगे बढ़ रहे है।



    हिमांशु सिंह
    डिप्टी ब्यूरो चीफ उ०प्र०