सहरसा। जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी ने किया टीकाकरण स्थल का दौरा, सर्वे लिस्ट अपडेट नहीं होने पर दी हिदायत

0
140

बिहार संवाददाता सिकंदर राय की रिपोर्टः

सहरसा। जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी ने किया टीकाकरण स्थल का दौरा, सर्वे लिस्ट अपडेट नहीं होने पर दी हिदायत

सहरसा ,29 फरवरी – आज जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ कुमार विवेकानंद के द्वारा सहरसा शहरी क्षेत्र के पशुपालन कॉलोनी वार्ड नंबर 2 में टीकाकरण स्थल का निरीक्षण किया गया, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ कुमार विवेकानंद ने सभी प्रखंडों को दिशा निर्देश दिया था। साथ ही सभी क्षेत्रीय कार्यकर्ताओं( आशा एवं एएनएम) को ससमय सर्वे करने एवं डियु लिस्ट तैयार करने के भी निर्देश दिए गए थे।इसको लेकर डीआईओ डॉ कुमार विवेकानंद ने शनिवार को सहरसा शहरी क्षेत्र के पशुपालन कॉलोनी आंगनबाड़ी केंद्र संख्या – 2 वार्ड नंबर- 2 का दौरा कर टीकाकरण की स्थिति का जायजा लिया।

हेड काउंट सर्वे एवं ड्यू लिस्ट में मिली खामी:
डीआईओ डॉ कुमार विवेकानंद के साथ इस मौके पर यूएनडीपी के भीसीसीएम मोहम्मद खालिद तथा यूनिसेफ के एसएमसी मजरूल हसन के साथ उन्होंने के सहरसा शहरी क्षेत्र के आंगनबाड़ी केंद्र संख्या – 2, पशु पालन कॉलोनी वार्ड नंबर- 2 का दौरा किया था।जिसमें उन्होंने पाया कि हेड काउंट सर्वे नहीं किया गया है। साथ में ड्यू लिस्ट भी अपडेट नहीं था। जबकि पूर्व में ही इसके विषय में जानकारी दी गयी थी। साथ ही उन्होंने बताया कि टीकाकरण सत्र पर मौजूद पेड मोबिलाईजर रीना कुमारी को उनके कार्य और दायित्व के बारे में समझाया । साथ ही जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ कुमार विवेकानंद के द्वारा यह बताया गया कि टीकाकरण से पहले सर्वे लिस्ट आशा और आंगनवाड़ी एएनएम के साथ मिलकर बैठकर सारे चीज को अपडेट कर ले ताकि क्षेत्र के एक भी बच्चे ना छूट पाएं। इसलिए जरूरी है कि कार्य-योजना के तहत ही क्षेत्रीय स्तर पर भी कार्य किए जायें।

टीकाकरण के कामों में गुणवत्ता में सुधार लाने का दिया गया दिशा निर्देश
यूएनडीपी के भीसीसीएम मोहम्मद खालिद ने बताया कि
में वहाँ की एएनएम सुधा कुमारी उपस्थित मिली। शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सा प्रभारी को जानकारी दे दी गयी है। उन्होंने बताया कि दौरे में मिली कमियों को दूर करने के लिए संबंधित अधिकारीयों को सूचना दी गयी है। नियमित टीकाकरण की सफलता के लिए सबों की आपसी सहभागिता अत्यंत जरुरी है। इसके बिना अभियान के लक्ष्यों को हासिल करने में कठिनाई आ सकती है।
इस मौके पर जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ कुमार विवेकानंद, यूनिसेफ के एसएमसी मजरूह उल हसन तथा अन्य सहयोगी संस्था कर्मी उपस्थित थे।