होमगार्ड जवान की हत्या में वांटेड गिरफ्तार

0
229

बिहार संवाददाता सिकंदर राय की रिपोर्ट

 

आरा भोजपुर जिले के तरारी थाना क्षेत्र के सैदनपुर गांव के समीप घटित होमगार्ड जवान मंगल साह हत्याकांड में वांटेड रवि यादव आखिरकार पकड़ा गया। सोमवार को तरारी थाना पुलिस ने वांटेड को धर दबोचा। गिरफ्तार रवि यादव तरारी के दुर्गपुर गांव का निवासी है। बाद में पूछताछ के बाद उसे जेल भेज दिया गया। पकड़े गए अपराधी को पुलिस सारा महादलित टोले में छेड़खानी का विरोध करने पर छह लोगों को गोली मारे जाने के मामले में एक महीने से तलाश कर रही थी। एसपी सुशील कुमार ने बताया कि गिरफ्तार अपराधी पर इनाम भी घोषित था। होमगार्ड जवान की हत्या में एक साल से वांछित था। पीरो डीएसपी अशोक कुमार आजाद के नेतृत्व में टीम का गठन किया गया था। इस दौरान तरारी थानाध्यक्ष अरविद कुमार ने दबिश देकर वांटेड को धर दबोचा। मालूम हो कि 30 मार्च 2019 को तरारी थाना अंतर्गत सैदनपुर गांव के समीप होमगार्ड जवान मंगल साह की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। मृतक होमगार्ड जवान मंगल साह तरारी के सैदनपुर गांव का निवासी था। एक आरोपी विनोद यादव को पहले ही गिरफ्तार कर लिया गया था। जबकि रवि यादव फरार चला आ रहा था। होमगार्ड जवान मंगल साह तरारी प्रखंड मुख्यालय स्थित फायर ब्रिगेड दफ्तर में कार्यरत था। घटना की रात फायर ब्रिगेड कर्मी मंगल साह रोज की तरह डयूटी खत्म होने के बाद मोटरसाइकिल से अपने गांव लौट रहा था, तभी सैदनपुर-पनपुरा गांव के सटे नहर पुल के पास पहले से घात लगाए हथियारबंद लोगों ने उसे गोली मार दी थी। मृतक की पत्नी दिलमानो देवी ने तरारी थाना में नामजद प्राथमिकी दर्ज कराई थी। जिसमें सैदनपुर गांव निवासी विनोद यादव तथा दुर्गपुर निवासी रवि कुमार यादव को नामजद अभियुक्त बनाया गया था।

दुष्कर्म की कोशिश के विरोध पर बच्ची समेत छह को मारी थी गोली

भोजपुर के तरारी थाना क्षेत्र के सारा गांव के महादलित टोले में पांच अप्रैल को बदमाशों ने जमकर उत्पात मचाया था। इस दौरान एक महादलित के घर में घुस महिला से दुष्कर्म की कोशिश की गई थी। विरोध करने पर तीन से चार राउंड फायरिग भी की गई थी। इसमें डेढ़ साल की मासूम बच्ची सहित छह लोग जख्मी हो गए थे। सभी को छर्रा लगा था। इनमें रामनाथ राम, अजय राम, कृष्णा राम, बीडीओ राम, भीखम राम व आयुषी कुमारी शामिल थी। इसे लेकर रवि यादव समेत छह के विरुद्ध नामजद एफआईआर दर्ज कराया गया था। घटना के दूसरे दिन ही पुलिस ने दो बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया था। इनमें राजेश सिंह और अखिलेश कुमार को पहले गिरफ्तार किया गया था।