उदीयमान सूर्य को अर्ध्य देने के साथ चार दिवसीय अनुष्ठान महापर्व छठ समाप्त।

1
741

उदीयमान सूर्य को अर्ध्य देने के साथ चार दिवसीय अनुष्ठान महापर्व छठ हर्षोल्लास के साथ संपन्न हो गया। सुबह होते ही छठवर्तीया अपने परिवार के साथ छठ घाट पर पहुंचकर नदी किनारे पानी में खड़े होकर सूर्य उदय होने का इंतजार किया। जैसे ही सूर्य उदय हुआ सभी छठवर्तीयो ने भगवान सूर्य को अर्घ्य प्रदान किया। छठ घाटों पर छठ व्रतियों द्वारा पूजा पाठ करने के बाद प्रसाद ग्रहण किया गया। शहर के महादेव घाट,पिता महेश्वर घाट,ब्राह्मणी घाट, सूर्य कुंड, केन्दुई घाट के साथ-साथ पॉलिटेक्निक कॉलेज घाट सहित अन्य घाटों पर छठ व्रतियों ने भक्ति भाव श्रद्धा से भगवान सूर्य को अर्पित कर अपने परिवार के सुख एवं समृद्धि की कामना की। सभी घाटों पर एक अलग ही नजारा देखने को मिला कहीं पानी में बच्चे खेलते दिखे तो कहीं चाट,चौमिन, गोलगप्पे खाते तो कहीं पानी में गुब्बारे उड़ाते दिखे। बच्चों के साथ-साथ उनके परिवार वालों ने भी इस महापर्व छठ का आनंद लिया। शहर के चौक चौराहे पर नगर निगम गया एवं जिला प्रशासन गया के द्वारा यातायात व्यवस्था के लिए उचित प्रबंध किया गया था। सभी पुलिसकर्मी अपना-अपना कार्य बखुबी से निभा रहे थे कि कहीं प्रशासन की तरफ से किसी को दिक्कत ना हो। इस महापर्व छठ मे भूले-भटके श्रद्धालुयो को अपने परिवार से मुलाकात कराने के लिए सभी संगठनों ने अपना-अपना शिविर लगा रखा था। सभी छठ घाटो पर संगठनों के द्वारा चाय की व्यवस्था थी तो कहीं पानी की। संगठन के कार्यकर्ताओं भी भक्ति श्रद्धा से भगवान सूर्य की सेवा में लगे हुए थे।

परैया: लोक आस्था का महापर्व छठ रविवार को व्रतियों द्वारा उदीयमान सूरज को अर्ध्य देकर पारण के साथ संपन्न हुआ। हरिदासपुर सूर्य मंदिर पोखरा पर हजारों छठवर्तीयो की संख्या में सुबह से ही भीड़ जुटना शुरू हो गई। महापर्व छठ के आखरी दिन पोखरा के पानी में उगते सूरज को अर्घ्य दिया गया।

इस व्रत में सूर्य देवता की पूजा की जाती है जो प्रत्यक्ष दिखते हैं और सभी प्राणियों को जीवन के आधार हैं। सूर्य के साथ-साथ षष्ठी देवी या छठ मैया की भी पूजा की जाती है। पौराणिक मान्यता के अनुसार, षष्टी माता संतानों की रक्षा करती हैं और उन्हें स्वस्थ और दीर्घायु बनाती हैं। हरिदासपुर सूर्य मन्दिर विधि व्यवस्था यहाँ कि समिति के द्वारा किया जाता है। जिसमें समिति के सचिव विंदेश्वरी प्रसाद अध्यक्ष नगेंद्र प्रसाद सिन्हा के साथ अरुण कुमार सिन्हा,अजय कुमार शर्मा उर्फ चुंगल सिंह,कृष्ण देव बिहारी उर्फ कृष्णा साव,भरथ चंद्रवंशी अमित कुमार,संटू कुमार,सत्यवान चौधरी,चंदेश्वर मांझी, नरेश माँझी के साथ साथ गाँव के निवासीयो का अहम योगदान रहता है।

गया संवाददाता : अभिजीत कुमार (नेशनल एन्टी करप्सन न्यूज चैनल)

1 COMMENT