केसपा को पयर्टक स्थल के रूप में किया जाए विकसित

0
312


गया – अनुमंडल मुख्यालय से 11 किलोमीटर दूर स्थित सांसद आदर्श ग्राम केसपा में भगवान बुद्ध से जुड़े अनेकों साक्ष्य हैं, लेकिन आज भी यह गांव उपेक्षा का दंश झेल रहा है। ग्रामीणों की मांगों को अनदेखी कर अब तक पर्यटन स्थल के रूप में केसपा को विकसित करने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है। इससे लोगों में भी आक्रोश है। केसपा गांव में प्रवेश करने पर सबसे पहले मां तारा देवी मंदिर का ही दर्शन होता है। इस मंदिर के वनावट में बौद्ध कलाकृति की झलक मिलती है। यहां गांव के बीचोबीच भगवान बुद्ध की अद्भुत काले पत्थर की बनी हुई आदमकद प्रतिमा विराजमान है। कुछ वर्ष पूर्व गांव में सड़क निर्माण के दौरान कमल के फूल के आकार का पत्थर की प्रतिमा मिली थी। एक दंत कथा के अनुसार भगवान बुद्ध इसी पत्थर पर बैठ कर यहां उपदेश दिए थे। लोग प्रतिदिन इस कमल के फूल की पूजा करते है। उसी उपदेश का असर है कि आज भी यहां के लोगों में भगवान बुद्ध के प्रति गहरी आस्था है। हर घर में उनकी प्रतिमा विराजमान है। बोधगया से कई बार बोद्ध भिक्षु केसपा गांव का भर्मण करने आये है। वर्ष 2014 में इसे सांसद आदर्श ग्राम के रूप में चुना गया, लेकिन आज तक पर्यटक स्थल के रूप में विकसित नहीं हो सका। ग्रामीण हिमांशु शेखर ने सरकार और जनप्रतिनिधियों से केसपा गांव को पर्यटक स्थल के रूप में विकसीत करने की पहल की मांग की है।

अभिजीत कुमार
प्रमंडल ब्यूरो प्रमुख
मगध प्रमंडल गया, बिहार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here