*नर्वल- गौशाला प्रकरण मे बिरहर ग्राम प्रधान और सचिव निलंबित*

*नर्वल- गौशाला प्रकरण मे बिरहर ग्राम प्रधान और सचिव निलंबित*

नर्वल/कानपुर। तहसील क्षेत्र नर्वल के विकाश खण्ड भीतरगांव के ग्राम पंचायत बिरहर के गौशाला में गोवंश को सूखा चारा देने व गोवंश के मृत शवों के निस्तारण में लापरवाही बरतने में ग्राम प्रधान व पंचायत सचिव जांच में दोषी पाए गए है, जिन्हे कानपुर जिला अधिकारी विशाख जी अय्यर ने तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है,साथ ही गांव के समिति बनाने का निर्देश भी जारी कर दिए है जब कि पशु चिकित्सा अधिकारी को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है,
बताते चलें कि भीतरगांव विकाश खण्ड के बिरहर ग्राम पंचायत की गौशाला में अब्यवस्थाओ को बयां करते हुए बीते दिनों एक वीडियो सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर वायरल हुआ था जिस पर कानपुर जिला अधिकारी विशाख जी अय्यर ने नर्वल एसडीएम गुलाब चंद्र अग्रहरी से मामले की जांच कराते हुए रिपोर्ट मांगी थी जिसमे नर्वल एसडीएम गुलाब चंद्र अग्रहरी ने रात में अचानक गौशाला पर पहुंच कर मामले की जांच पड़ताल की तो वीडियो में जो आरोप लगाए गए थे उनमें कुछ आरोप जांच में सही पाए गए यहां पर जांच के दौरान उन्हें नाँद में सूखा चारा पड़ा मिला, साथ ही यहां पर मृत गोवंशो के शव के कंकाल भी पड़े दिखाई दिए थे, जिसकी रिपोर्ट उन्होंने कानपुर जिला अधिकारी को भेजी थी, कानपुर जिला अधिकारी विशाख जी अय्यर ने जांच में दोषी पाए गए, बिरहर ग्राम प्रधान उमा देवी और पंचायत सचिव जग भान को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है, साथ ही ग्राम पंचायत में समिति बनाने के निर्देश दिए है वहीं बिरहर गौशाला में लापर-वाही के मामले में कानपुर जिला अधिकारी विशाख जी अय्यर ने भीतरगांव पशु चिकित्सा अधिकारी ओम प्रकाश वर्मा को कारण बताओ नोटिस जारी किया है साथ ही गौशाला से संबंधित रिपोर्ट और अन्य सभी दस्ता वेज मांगे है मामले में जब हमने कानपुर जिला अधिकारी विशाख जी अय्यर से बात की तो उन्होंने बताया गौशाला सरकार की प्राथमिकता है इसमें किसी भी प्रकार की लापर-वाही बर्दाश्त नही की जाएगी जांच में दोषी पाए गए ग्राम प्रधान और सचिव पर कार्रवाई की गई है जब कि पशु चिकित्सा अधिकारी को कारण बताओं नोटिस जारी किया गया है,
*छै मिनट मे हो गया गौशाला का निरीक्षण*
बताते चलें वहीं बीते दिन गौशाला में निरीक्षण करने पहुंचे नोडल अधिकारी विशेष सचिव विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी प्रकाश बिंदु ने मात्र औप चारिकता पूरी करते नजर आए जिन्हे भीतरगांव क्षेत्र के गौशा-लाओं मे व्यवस्था पूरी तरह चाक चौबंद मिली थी उन्हें यहां पर मवेशी हरा चारा खाते भी मिले यही हाल भीतरगांव के सभी गौशा-लाओ का था निरीक्षण की जान-कारी पहले से होने पर अधिकारियो ने गौशा-लाओ में व्यवस्था पहले ही चाक चौबंद करा दी थी जिसके चलते उन्हें किसी भी गौशाला में कोई कमी नही मिली थी जब कि साढ़ गौशाला का निरीक्षण करने मे तो विंद जी को मात्र छै मिनट ही लगे थे जिसकी क्षेत्रीय जनता मे चर्चा भी जम कर हो रही है वहीं लाव लश्कर के साथ चल रहे रहे एक कर्म चारी ने नाम न लिखे जाने की बात कहते हुए बताया कि क्षेत्र के गौशाला देखने मे लगने वाले समय से अधिक समय तो विंद जी ने भीतरगांव का ऐतिहासिक मन्दिर और बेहटा का मान-सूनी मन्दिर देखने मे लगाया था। कानपुर से जिला ब्यूरो चीफ विपिन कुमार की रिपोर्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here