विद्यालय के कैंपस में गरी चापाकल बच्चे के पानी पीने के लिए नहीं बल्कि बांधी जाती है मवेशी।

0
567

समस्तीपुर संवाददाता सिकंदर राय की रिपोर्ट:-
विद्यालय के कैंंपस में गरी चापाकल बच्चे के पानी पीने के लिए नहीं बल्कि बांधी जाती है मवेशी।

हसनपुर प्रखंड के मालीपुर गांव स्थित राजकीय प्राथमिक विद्यालय मालीपुर से सामने आया है मालीपुर विद्यालय में नाम का 3 शिक्षक एवं शिक्षिका हैं वर्ग एक से पाचवी तक की पढ़ाई होती है विद्यालय में कार्यरत प्रधानाध्यापक अरविंद कुमार ठाकुर शिक्षिका नूतन कुमारी एवं सुनीता कुमारी विद्यालय में कार्यरत हैं छात्र छात्रा की बात करें तो लगभग 40 छात्र-छात्रा विद्यालय में है प्रधानाध्यापक हमेशा सरकारी कामकाज में व्यस्त रहते हैं।
शिक्षिका नूतन कुमारी अधिकतर छुट्टी में ही रहती है शिक्षिका सुनीता कुमारी विद्यालय में उपस्थित रहती है लेकिन शिक्षिका सुनीता कुमारी हमेशा सामूहिक क्लास करती है क्योंकि शिक्षक के अभाव में अलग-अलग क्लास नहीं कर पाती है शिक्षिका सुनीता कुमारी सामूहिक क्लास लेने के क्रम में छात्र छात्राओं को पानी में रहने वाला 10 जीव जंतु का नाम लिखने के लिए कहीं जब की सुनीता कुमारी से पानी में रहने वाला जीव जंतु के बारे में पूछा गया तो शिक्षिका सुनीता कुमारी को खुद नहीं पता था कि पानी में कौन कौन जीव जंतु रहती है जब मैडम से यह पूछा गया कि भारत के प्रथम महिला राष्ट्रपति कौन थी तो मैडम को यह भी नहीं पता था जब मैडम से भारत के प्रथम प्रधानमंत्री के नाम पूछा गया तो मैडम कहने लगी कि मुझे जानकारी नहीं है विद्यालय में अकेले रहने के कारण हमेशा टेंशन में रहती हूं।
उसे विद्यालय में साफ-सफाई को लेकर बात करें तो कचरे की अंबार लगी हुई है शौचालय रूम हमेशा बंद रहती है ताला लटका हुआ रहता है विद्यालय कंपास के आगे चापाकल पानी पीने के लिए गराया गया है लेकिन गाय भैंस बांधी जाती है बच्चे के मध्यान भोजन बनने के जगह पर मकोड़ा की जाल लगी रहती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here