शिकायत लेकर पहुंची पीड़िता को सिपाही ने चौकी से भगाया

0
49
  • ◆शिकायत लेकर पहुंची पीड़िता को सिपाही ने चौकी से भगाया● जहां अंतराष्ट्रीय महिला दिवस 8 मार्च को सरकार महिलाओं की सुरक्षा आदि को लेकर अनेका अनेक उपाय अमल में ला रही है. वहीं कुछ जगह महिलाओं के साथ दोयम दर्जे का व्यवहार आज भी इस समाज को शर्मसार करने का काम कर रहा है. सरकार महिलाओं के प्रति होने वाले अपराधों को कम करने व उचित सुनवाई को लेकर महिला थाने के बाद महिला रिपोर्टिंग चौकियों की स्थापना कर रही है. वहीं कुछ सामान्य चौकियों पर महिलाओं के साथ अभद्रता पूर्वक व्यवहार सामने आ रहे हैं. ऐसा ही मामला कोतवाली क्षेत्र के जाजपुर चौकी मे सामने आया है. जहां अपनी शिकायत लेकर पहुंची पीड़िता के साथ वहां के सिपाही ने अभद्रता पूर्वक व्यवहार करते हुए भगा दिया. जानकारी के अनुसार असगरपुर गांव निवासी महिला सरिता देवी की शादी 10 वर्ष पूर्व बदलेसिरमापुर में श्री राम के पुत्र उमेश कुमार के साथ हुई थी.जहां उसने दो बेटियों को जन्म दिया. वही ससुराल मैं दहेज एवं बेटियों को लेकर पति उमेश कुमार के अलावा देवर संदीप, मानवेंद्र व ससुर श्री राम एवं सास सावित्री द्वारा घरेलू कलह के अंतर्गत हमेशा उसके साथ अभद्रता की जाती है. महिला के अनुसार दहेज के लिए वही बाद में बेटियों की वजह से सासुराली जन महिला को काफी समय से प्रताड़ित कर रहे थे. कुछ माह पूर्व ससुराली जनों द्वारा महिला को बेटियों से वंश ना चलने का ताना देते हुए घर से भगा दिया गया. जिसकी शिकायत लेकर महिला पहले भी कई बार चौकी और कोतवाली के चक्कर लगा चुकी है पर उसके साथ अभी तक कोई भी न्याय संगत कार्य नहीं किया जा सका. वही बीते दिन महिला जाजपुर चौकी पहुंची थी. जहां चौकी इंचार्ज के ना होने पर मौके पर मौजूद एक सिपाही द्वारा महिला से अभद्रता पूर्वक व्यवहार करते हुए उसे वहां से चले जाने को कहा गया. जिससे महिला अपनी दो बेटियों के साथ दुखी मन से चौकी से लौट आई. ऐसी घटनाएं समाज के लिए कलंक है. क्या फायदा जब महिला अपनी समस्या कहीं नहीं बता सकती तो ऐसी चौकी या थाने की स्थापना करना अन्याय पूर्ण है।.
    कानपुर घाटमपुर से संवाददाता विपिन कुमार की रिपोर्ट