।। किसानों पर दोहरी मार,कहीं कम बारिश तो कहीं बाढ़ बन रही मुसीबत,जाने क्या कर रही सरकार ।।

0
53

*किसानों पर दोहरी मार,कहीं कम बारिश तो कहीं बाढ़ बन रही मुसीबत,जाने क्या कर रही सरकार*

लखनऊ। उत्तर प्रदेश का किसान इस समय दोहरी मार झेल रहा है।एक तरफ जहां कई जिले कम बारिश की होने से सूखे जैसे हालात झेल रहे हैं तो वहीं प्रदेश की प्रमुख नदियों में बढ़े जलस्तर से 16 जिलों के 600 से ज्यादा गांव बाढ़ के पानी से जलमग्न हो गए हैं।विभिन्न जिलों में गंगा, यमुना, शारदा, घाघरा, चंबल और बेतवा नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं।सरकार एक तरफ जहां सूखे से निपटने में जुटी है तो वहीं दूसरी तरफ बाढ़ के संकट ने चुनौतियों को और बढ़ा दिया है। अधिकारियों की मानी जाए तो बाढ़ से निपटने के लिए राहत और बचाव कार्य में पीएसी, एनडीआरएफ, एसडीआरएफ की टीमें जुट गई हैं।

राहत आयुक्त द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक कुल 16 जिलों में 1,02,919 लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं। सरकार ने 16 जिलों में 337 बाढ़ राहत शिविरों की स्थापना की है और बाढ़ प्रभावित गांवों के 10,268 लोगों को इन शिविरों में पहुंचाया गया है। संबंधित जिलों के प्रशासन ने प्रभावित क्षेत्रों में राहत और बचाव कार्य शुरू कर दिया है।

*सबसे ज्यादा हमीरपुर में 114 गांव प्रभावित*

आंकड़ों के मुताबिक हमीरपुर जिले में सबसे अधिक 114 गांव बाढ़ से प्रभावित हैं। इसके बाद वाराणसी 107, प्रयागराज 96, जालौन 74, कानपुर देहात 54, इटावा 49, मिर्जापुर 39, आगरा 36, चित्रकूट 20, औरैया 18, फर्रुखाबाद 15, बांदा और कानपुर आठ-आठ, सीतापुर पांच, फतेहपुर चार, बलिया, कासगंज और मऊ एक-एक गांव बाढ़ से जलमग्न हो गए हैं।

*पूर्वांचल के कई जिलों में बाढ़ का संकट*

बदायूं, गाजीपुर और बलिया जिलों में गंगा खतरे के निशान से ऊपर बह रही है, औरैया, जालौन, हमीरपुर और बांदा में यमुना खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। चंबल आगरा में खतरे के निशान से ऊपर और लखीमपुर खीरी जिले के पलियाकलां में शारदा नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है।

*कई जिलों में गंगा का जलस्तर खतरे के निशान के करीब पहुंचा*

फर्रुखाबाद, प्रयागराज जिलों में गंगा खतरे के निशान के पास बह रही थी। इटावा और प्रयागराज जिलों में यमुना का भी यही हाल बना हुआ है। राम गंगा, गंडक, राप्ती, रोहिणी, बेतवा, केन, चंबल के जलस्तर में भी वृद्धि दर्ज की जा रही है। हालांकि ये नदियां वहां खतरे के स्तर से नीचे बह रही हैं।

*राहत एवं बचाव कार्य में जुटीं पीएसी, एनडीआरएफ , एसडीआरएफ*

राहत आयुक्त रणवीर प्रसाद के मुताबिक एनडीआरएफ को सिद्धार्थनगर, वाराणसी, बहराइच, अयोध्या, बलिया, हमीरपुर, प्रयागराज, गोरखपुर, जालौन, इटावा और औरैया जिलों में तैनात किया गया है। एसडीआरएफ को आगरा, झांसी, वाराणसी, इटावा, प्रयागराज, गोरखपुर, बलिया, जालौन, अयोध्या और मिर्जापुर में तैनात किया गया है। उन्होंने कहा कि पीएसी ने राहत और बचाव कार्यों के की कमान संभाल ली है।

।। प्रयागराज से संवाददाता राम शिरोमणि जी की रिपोर्ट, NAC न्यूज़ ।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here